• Thursday, 12 September 2019

    रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया से जुड़े कुछ खास बाते







    भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) देश के बैंकिंग सिस्टम को रेगुलेट करता है 1 अप्रैल 1935 को भारतीय रिज़र्व बैंक को स्थापना की गई थी आरबीआई करेंसी सिस्टम को ऑपरेट करता है 


    ➤आरबीआई बैंकिंग से जुड़े अन्‍य दूसरे कामों का संचालन करता है। यही वजह है कि रिजर्व बैंक को ‘बैंकों का बैंक’ कहा जाता है।

    ➤रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया सिर्फ करंसी नोटों की छपाई करता है। जबकि, सिक्‍कों को बनाने का काम भारत सरकार के द्वारा किया जाता है।








    ➤भारत में वित्तीय वर्ष के बारे में तो सभी जानते होंगे। यह 1 अप्रैल से 31 मार्च तक होता है। वहीं रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का वित्तीय वर्ष 1 जुलाई से शुरू होता है और 30 जून तक रहता है।

    ➤R.B.I. के देश भर में 29 ऑफिस ही जिसमृ से अधिकांश ऑफिस राज्यों  की राजधानी में है 

    ➤RBI का एक नियम ये भी है कि यदि 1 से 20 रूपए तक का कोई नोट 50 फीसदी से कम फटा है तो बैंक आपको पूरे पैसे देगा लेकिन 50 फीसदी से ज्यादा फटा है तो आपको कुछ नही मिलेगा। बड़े नोटो में यह सीमा 40 और 60 फीसदी हो जाती है।








    ➤आपको बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक का गठन एक निजी संस्था के रुप में 1 अप्रैल 1935 को किया गया था लेकिन अब यह एक मूल रूप से सरकारी संस्था है।
     ➤अगर बात रिजर्व बैंक के लोगों की करी जाए तो आपको बता दें कि इसका लोगों ईस्ट इंडिया कंपनी की डबल मोहर को देखकर किया गया था।
     ➤आपको बता दें कि रिजर्व बैंक सिर्फ करेंसी नोट की छपाई करता है। सिक्कों को बनाने का काम भारत सरकार करती है।

    No comments:

    Post a Comment