• Tuesday, 29 January 2019

    कैसे करें दांतो की देखभाल







    दांतों की देखभाल के लिए बै‍क्‍टीरिया की नियमित रूप से सफाई  करनी चाहिए मुंह में कठोर सतह हमारे दांत होते है लेकिन मौजूदा समय में अधिकतर लोग पीले दांतों की समस्या से घिरे हुए हैं। दांतों में पीलापन आने के कई कारण हो सकते हैं। जहां बैक्टीरिया चिपक जाते हैं, जोकि दिखाई नहीं देते हैं। दरअसल दांतों की सफाई करने का मुख्य उद्देश्य ब्रश या फ्लोस की सहायता से प्‍लेक को साफ़ करना होता है| दांतों व मसूड़ों के संक्रमण हमारे पूरे तंत्र को प्रभावित कर देते हैं।


     दांतो की देखभाल करने के तरीके
      
    दांतों की सफाई के लिए नियमित रूप से दो वक्त ब्रश करें। दांतों को इस तरह से साफ करें कि दांतों में फंसे हुए अन्न-कण निकल जाएं। जो साँस में दुर्गन्ध के लिए विशेष रूप से जिम्मेदार होते है।

       हमेशा बिना अल्कोहल वाले माउथवाश का प्रयोग करें क्यौंकि अल्कोहल युक्त माउथवाश से जीरास्टोमिया (शुष्क मुख) हो जाता है।









     दांतों के बीच फ्लॉस करके फंसे हुए खाद्य कणों को निकाल दें।

    इसके अलावा कुछ लोगो को गुस्से में दांत पीसने की आदत होती है जो दन्त स्वास्थ्य के लिए बिलकुल  ठीक नहीं होती है।
     
    दूसरों के इस्तेमाल किए जाने वाले टूथब्रश का इस्तेमाल न करें। इससे दांतों में संक्रमण हो सकता है।


     दांतों को साफ और मोतियों जैसा सफेद बनाने के लिए नमक का इस्तेमाल हमारी संस्कृति में बहुत पहले से चला आ रहा है। नमक में भारी मात्रा में सोडियम और क्लोराइड होता है, जो दांतों का पीलापन कम करने में मदद करता है।

    दांतो को कैविटी से कैसे बचाये 

     दांतों में छेद होने को वैज्ञानिक भाषा में दन्त क्षय या कैविटी कहते है एंटी-इंफ्लेमेंटरी, एनाल्‍जेसिक और एंटी-बैक्‍ट‍ीरियल गुणों के कारण लौंग दर्द को कम करने और कैविटी को फैलने से रोकता है।








    नमक में मौजूद एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुणों के कारण यह कैविटी के इलाज के लिए इस्‍तेमाल किया जाता है। यह दर्द और सूजन को कम करने, किसी भी प्रकार के संक्रमण और मुंह में बैक्‍टीरिया की वृद्धि को रोकने में मदद करता है। 
    कुछ लोग के गलत खान-पान या सही तरीके से दांतों की देखभाल न करने पर इनमें कैविटी यानी कीड़ा लग जाता है।कई बार कीड़ा लगने से इतना दर्द होता है कि उसको सहन करना बहुत मुश्किल हो जता है। इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए कई लोग दवाइयां और ट्रीटमेंट का सहारा भी लेते हैं बैक्‍टीरियल के साथ-साथ एंटीबायोटिग गुणों से समृद्ध होने के कारण, लहसुन दांतों के टूटने और कैविटी की समस्‍या को दूर करने में मदद करता है

    No comments:

    Post a Comment