• Saturday, 16 December 2017

    टाइटैनिक जहाज से जुड़े रोहचक तथ्व

    टाइटैनिक जहाज एक समय में दुनिया का सबसे बड़ा जहाज माना जाता था | 

    टाइटैनिक जहाज के डूबने की वजह थी वह हिम पर्वत से टकरा गया था |
    जहाज का निचला हिस्सा टूट गया जिसे उसमे पानी अधिक तेजी से भरने लगा था | 

    टाइटैनिक का जहाज जब हिम पर्वत से  टकराया  तब वो जहाज साउथम्टन  से नूयार्क की और जाने के लिए रवाना हुआ था | 

    जहाज के डूबता ही इसमें ३०० लोगो की लाशें मिल पाई जबकि मरने वालो की सख्या बहुत अघिक थी | 







    जहाज में ४ चिमिनिया थी जिसमे से एक सिर्फ जहाज का संतुलन  बनाये  रखाने  के लिए थी | 

    आपको जान कर हैरानी होगी की जहाज जब डूबा था तो वो २ टुकड़ो में बट जाया था| 

    क्या आप जानते है जहाज में कई  नए शादी सुध लोग अपना हनीमून मानाने गए थे | 

    टाइटैनिक जहाज की गति ४०km\घंटा थी | टाइटैनिक जहाज ३१ मई १९११ को लॉन्च हुआ था | 

    टाइटैनिक जहाज को चलने के लिए ६०० टन कोयला कीआवशक्ता पड़ती है | 

    जहाज में उच्चतम class के  लोगो  लिए बहुत v.i.p सेवाएं उपलब्ध थी | 

    जहां जहाज में करीब ८०० लोग सफर कर रहे थे उनमे से २३ महिलाये थी 

    जहाज में Atlantic daliy bulletin नमक खुद का  अख़बार चलता था | 

    जहाज में लोग अधिक होने  के कारण इसमें रोज 1500 गैलन पानी इस्तेमाल होता  था | 

    शायद आप नहीं जानते इसमें बहुत सी चीजों  अलावा इसमें 8000 सिगार भी इस्तेमाल होते थे | 







    वर्फ की चट्टान से जब जहाज डूबा थो उन दोनों के बीच 30 sceका फासला था |

     टाइटैनिक जहाज  को  टकराने के बाद डूबने में २ घंटे ४० मिंट लगा था | 

    जब जहाज डूबा तो  2 कुत्ते  और 700  बचाया जा सका था | 

    टाइटैनिक जहाज की लबांई 291 मीटर थी वह उस समय का सबसे बड़ा जहाज था | 





    No comments:

    Post a Comment