• Friday, 1 September 2017

    बच्चो को कैसे दे संस्कार - kaise de baccho ko sanskaar

                                     







    आप सभी को ये बात अच्छी तरह से पता है की बच्चो अच्छे संस्कार डालने का काम माता पिता का होता है अगर माता पिता का व्यवहार संस्कार सब  अच्छे होंगे तो उन्हें देख आपके बच्चे खुद पर खुद संस्कारी बन जायेगे आज कल के युग में हम अपने बच्चो को अच्छे संस्कार देकर उन्हें पालले ये बहुत कठिन होता जा रहा है हर माता पिता चाहते की उनका बच्चा अच्छा इंसान बने पर वो ये भूल जाते की उन्होंने ने बचपन में जैसी नीव डाली आगे चलकर बच्चा भी वैसा ही बनेगा अगर आप अपने बच्चे में अच्छे संस्कार डालना चाहते है तो उसके मन में बचपन  से ही नकारत्मक भावना को निकलना होगा और घर का मौहोल हमेशा तनावमुक्त रखे आप अपनों के साथ अच्छा व्यवहार करे जिसे बच्चे जिसे देखे वैसा सीखे चलिए आज हम आप को कुछ ऐसे संस्कार की बाते बताते है जो आप अपने  में आसानी से  डाल सकते है | 

    बच्चो की पसंद जाना - बच्चो की पसंद न पसंद सिर्फ घर वाले हे जानते है बाहर वालो को नहीं पता होती तो आप अपने बच्चो में ये आदत जरूर डाले की वो हर समय किसी भी प्रकार की जिद बहार वालो सामने  न करे 








    बिना बताये कोई काम न करे - माता पिता को ये बात अपने बच्चो में बचपन से ही डाल देनी चाहिए की वो बिना बड़ो की इजाजत कोई काम न करे चाहे वो अपने घर पर हो या कही बहार जब कोई काम करे चाहे खेलने जाना हो किसी से मिलने बिना पूछे  न करे | 

    धन्यवाद करना -  जब भी बच्चे  कुछ भी दे तो उन्हें thank u जरूर बोले इसे पता चलता है की आप का बच्चा कितना सभ्य है उसमे कितने अच्छे संस्कार है| 

    प्लीस - बच्चे जब भी अपने से बड़े से कोई बात पूछे तो प्लीज़ का प्रोयग जरूर करे |  







    बड़ो  बीच न बोले - बहुत से बच्चो  आदत होती है की जब कोई २ बड़े बात कर रहे होंगे तो वो बीच में जरूर बोलेगे ऐसे में माता पिता को बच्चो में बचपन से ही सीखा कर रखना चाहिए की बड़ो के बीच नै बोलते उनकी बात ख़तम होने पर बोलते है | 

    गलत व्हवहार न करे - माता पिता को कभी भी अपने बच्चो के सामने किसी से गलत व्हवहार नहीं करना चाहिए ना गलत भाषा का प्रयोग करना चाहिए क्योंकी आगे चल कर बच्चे भी वैसा ही सीखते है गलत भाषा का प्रयोग गलत व्हवहार बच्चा न करे इस बात का ध्यान माता पिता को बचपन  रखना चहिये ताकि आगे चलकर उनका बच्चा अच्छा इंसान बने | 

    बात चीत का तरीका - माता पिता को अपने बच्चो के मन में अच्छी बाते बचपन से हे डालनी चाहिए ताकि आगे चल कर वो अपने बड़ो का आदर करे उन्हें कभी जवाब ना दे ना कभी ऐसा बोले जिस की वजह से आपको किसी  के सामने शर्मिंदा होना पड़े बड़ो के सामने काम बोलना और अच्छे व्हवहार से सबका विश्वास आसानी से जीत लेना ही अच्छे बच्चो के गुड़ होते है 

    नियंत्रण बनाना - हर बच्चा चाहे वो छोटा हो या बड़ा सब हमेशा अपनी मनमानी करना चाहते है तो ऐसे में उनके माता पिता का फर्ज होता है की वो अपने बच्चो पर कैसे नियंत्र बनाये  बचपन से उन्हें सही गलत का तरीका सिखाये ताकि उन्हें आगे चल कर कभी कोई फैसला लेना पड़े तो वो सही राह चुने अधिकतर माता पिता अपने बच्चो पर जरूरत से  ज्यादा नियंत्रण बनाते है वो भी गलत है जरूरत से ज्यादा नियंत्रण बच्चो में सही गलत की समझ भी खो देता है ज्यादा सख्त व्हवहार से या तो बच्चे गलत राह चुनते या झूट बोलते तो ऐसा व्हवहार आप अपने बच्चो के साथ न करे | 








    प्यार से सिखाये बाते - हर बच्चा जिद करता नखरे भी दीखता ऐसे में अघिकतर माता पिता या तो सारी जिद पूरी करते या उन्हें डाटते है दोनों ही रूप में बच्चे पर गलत असर पड़ता है बच्चो की सारी जिद पूरी होने पर बच्चा आगे चलकर चाहने वाली ऐसे जिद कर बैठते  पिता के बस में नहीं होती और दूसरी सूरत में जब हम बच्चे को जरूरत से ज्यादा डाटते तो बच्चा या तो गलत दिशा में चला जाता और  बहुत सी गलत बाते उनके मन में आ जाती दस सूरत में नुक्सान माता पिता का हे होता है इसलिए आप अपने बच्चो जो जो भी बाते बताये या सिखाये प्यार से ताकि न वो गलत समझे न जिद्दी बने |




    No comments:

    Post a Comment